साले सारंग ऋषि की तपस्या से खुश होकर महादेव ने दिया था आर्शिवाद

वाराणसी। द्वादश ज्योतिर्लिंग में प्रमुख सातवें श्री विश्वेश्वर ज्योतिर्लिंग (काशी विश्वनाथ) स्वयं काशी में विराजते है। इस पावन ज्योतिर्लिंग के दर्शन-पूजन मात्र से मनुष्य के सभी पापों-तापों से छुटकारा मिलता है। काशी विश्वनाथ के इस नगरी में विराजमान होने से ही यहां जो भी प्राणी अपने प्राण त्यागता है, उसे मोक्ष की प्राप्ति होती है। मान्यता है कि काशी विश्वनाथ उसके कान में तारक मंत्र का उपदेश करते हैं।

काशी नगरी में बाबा विश्वनाथ सारनाथ सारंगनाथ महादेव मंदिर स्थित ससुराल में साले ऋषि सारंग नाथ के साथ विराजमान हैं। जहां महादेव और उनके साले ऋषि सारंग नाथ का शिवलिंग है। मंदिर के गर्भगृह में दोनों शिवलिंग एक साथ है। इस मंदिर में दर्शन पूजन से ससुराल और मायके पक्ष में संबंध प्रगाढ़, सौहार्दपूर्ण हो जाते है। काशी में मान्यता है कि सावन माह में बाबा पूरे एक माह यहां विराजते है। सावन माह यहां दर्शन पूजन और जलाभिषेक करने से वही पुण्य मिलता है, जितना कि श्री काशी विश्वनाथ मंदिर में। इसको लेकर पुराणों में एक कथा का भी है।

कथा के अनुसार महादेव आदिशक्ति पार्वती के साथ विवाह के बंधन (पाणिग्रहण ) में बंधने के बाद कैलास पर्वत पर ही रह रहे थे। अपने पिता के घर में ही विवाहित जीवन बिताना माता पार्वती जी को अच्छा नहीं लग रहा था। एक दिन उन्होंने महादेव से कहा कि आप मुझे अपने घर ले चलिये। यहां रहना मुझे अच्छा नहीं लगता। सभी लड़कियां शादी के बाद अपने पति के घर जाती हैं, मुझे पिता के घर ही रहना पड़ रहा है। महादेव ने उनकी प्रार्थना स्वीकार कर ली। वह माता पार्वती को साथ लेकर अपनी पवित्र नगरी काशी में आ गये। यहां आकर वे विश्वेश्वर ज्योतिर्लिंग के रूप में स्थापित हो गए।

उधर,राजा दक्ष प्रजापति (मां पार्वती के पिता) के पुत्र और सती के बड़े भाई सारंग ऋषि तपस्या से हिमालय पर्वत से लौट कर घर आये तो पता चला कि बहन सती (पार्वती) का विवाह महादेव से हो गया है। इस पर उन्होंने अपनी मां से विरोध जताते हुए कहा कि सती का विवाह आपने एक ऐसे व्यक्ति से कर दिया जिसके पास न घर है, ना तन पे ढंग के कपड़े । मृगछाला लपेटे भूतों टोली के साथ घूमते फिरते है। माता उन्हें समझाती हैं कि जिसके प्रारब्ध में जो होता है उसे वही वर मिलता है। तुम बहुत दिनों बाद आए हो जाकर अपने बहन से मिल आओ।

मां के समझाने पर ऋषि सारंगनाथ भारी मात्रा में धन संपदा लेकर बहन पार्वती से मिलने काशी आ रहे थे। काशी से कुछ दूर मृगदाव (सारनाथ) पहुंचे तो उन्होंने देखा कि पूरी काशी ही सोने की तरह चमक रही है। यह देख उन्हें अपनी गलती का अहसास हुआ और ऋषि वहीं तपस्या में लीन हो गए। जब इसका बोध काशी विश्वनाथ को हुआ तो वह मृगदाव पहुंचे। महादेव ने तपस्यारत सारंगनाथ से कहा कि व्यथा और दुख को त्याग दे। हर भाई अपनी बहन की सुख-समृद्धि चाहता है। भाई होने के नाते आप भी अपना कर्तव्य निर्वहन कर रहे थे। हम आप के तपस्या से खुश है,वर मांगे। इस पर ऋषि सारंग बोले— प्रभु, हम चाहते हैं कि आप हमारे साथ सदैव रहें। इस पर भगवान शिव ने उनसे काशी स्थित अपने धाम पर चलने का अनुरोध किया। लेकिन, ऋषि सारंग ने साथ जाने से यह कहते हुए मना किया कि यह जगह बहुत रमणीय है। इसके बाद महादेव ने कहा कि भविष्य में तुम सारंगनाथ महादेव के नाम से पूजे जाओगे।

Others Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button